अभिनेत्री अनंग्शा बिश्वास (Anangsha Biswas) का कहना है कि उन्हें इस बात का एहसास हुआ है कि हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के कायदे-कानून उचित नहीं हैं और खुद को वह गर्व के साथ आउटसाइडर कहती हैं।

बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के निधन के बाद से बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद और इंसाइडर व आउटसाइडर को लेकर चर्चाएं जोरों पर हैं।

अनंग्शा कहती हैं, मैं एक थिएटर एक्टर हूं और मैंने सिडनी से अभिनय पर प्रशिक्षण प्राप्त किया है। शुरुआत में, मैंने सोचा था कि मैं काम को अच्छे से सीख खुद को साबित करूंगी और करियर में आगे बढूंगी। हालांकि, जल्द ही मैंने महसूस किया कि इस इंडस्ट्री के नियम अनुचित हैं।

वह आगे कहती हैं, आप कितनी ही मेहनत क्यों न कर लें, इसका तब तक कोई फर्क नहीं पड़ता, जब तक कि आप यहां किसी को जानते नहीं हैं और दुभाग्र्यवश मैं किसी को नहीं जानती थी।

अनंग्शा चाहती हैं कि इंडस्ट्री में नियम सभी के लिए एक समान हो।

वह कहती हैं, मैं एक आउटसाइडर हूं और मुझे इस बात का गर्व है। मैंने कभी नहीं चाहा कि चीजें मेरे लिए आसान हो, लेकिन हां, मैं चाहती हूं कि ये उचित हो। मैं भी अपने काम को बेहतर ढंग से अंजाम देने की काबिलियत रखती हूं।

–आईएएनएस

एएसएन/आरएचए