Delhi News। दिल्ली दंगों (Delhi Riots) की साजिश रचने की बात पुलिस के समक्ष स्वीकार करने के बाद आम आदमी पार्टी के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन (Tahir Hussain) को लेकर फिर से राजनीति गरमा गई है।

बीजेपी नेता ताहिर हुसैन के मुद्दे पर लगातार आम आदमी पार्टी पर हमलावर हैं। अब भाजपा ने पूर्वी दिल्ली नगर निगम से पार्षद ताहिर हुसैन की सदस्यता रद्द करने की मांग उठाई है। इसके लिए मेयर को पत्र लिखने की तैयारी है।

बीजेपी की दिल्ली इकाई के मीडिया संयोजक नीलकांत बख्शी ने आईएएनएस से कहा, दिल्ली पुलिस की इंटरोगेशन रिपोर्ट के मुताबिक दंगों की साजिश रचने में ताहिर हुसैन ने अपनी भूमिका स्वीकार कर ली है। मुख्यमंत्री केजरीवाल और उनकी पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय सिंह अपनी पार्टी के पार्षद का अब किस मुंह से बचाव करेंगे? दिल्ली को दंगों की आग में झोंकने को लेकर उन्हें जवाब देना चाहिए।

बीजेपी नेता नीलकांत बख्शी ने कहा कि जनवरी, फरवरी से लेकर निगम की लगातार चार बैठकों में ताहिर की मौजूदगी नहीं थी। जब फरवरी में दंगे हुए थे, तब निगम की बैठकों में ताहिर नहीं जाते थे। इससे साफ पता चलता है कि वह तब दंगे की साजिश रचने में लगे थे। नियम है कि अगर तीन बैठकों में लगातार कोई पार्षद बिना वाजिब कारण के गायब रहता है तो सदस्यता रद्द करने की व्यवस्था है। अब भाजपा मेयर को पत्र लिखकर इस मामले में कार्रवाई करने की मांग करेगी।

गौरतलब है कि दिल्ली पुलिस की इंटोरेगेशन रिपोर्ट के मुताबिक, ताहिर हुसैन ने यह बात स्वीकार की है कि उन्होंने अपनी छत पर कांच की बोतल, पेट्रोल, एसिड और पत्थर आदि इकट्ठा किया था। ताहिर हुसैन ने हिंसा भड़काने के लिए अपने परिचित खालिद सैफी को सड़कों पर लोगों को जुटाने की जिम्मेदारी दी थी। उत्तर पूर्वी दिल्ली नगर निगम के वार्ड 59, नेहरू विहार से पार्षद ताहिर हुसैन के दिल्ली दंगों में घिरने पर बीते फरवरी में आम आदमी पार्टी ने निलंबित कर दिया था।

–आईएएनएस

एनएनएम