भारत व Pakistan ने कैदियों की सूची एक-दूसरे को सौंपी

भारत-व-Pakistan-ने-कैदियों-की-सूची-एक-दूसरे-को-सौंपी

Delhi News। भारत (India) और Pakistan (Pakistan) ने बुधवार को राजनयिक चैनलों के माध्यम से मछुआरों व अन्य नागरिक कैदियों की सूची ( list of prisoners ) एक-दूसरे को सौंपी।

विदेश मंत्रालय के एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि सूचियों को सौंपने की यह कार्रवाई 2008 के समझौते के प्रावधानों के तहत हुई। इस समझौते के तहत हर साल एक जनवरी और एक जुलाई को ऐसी सूचियों का आदान-प्रदान किया जाता है।

भारत ने अपने यहां कैद 265 Pakistani नागरिकों और 97 मछुआरों की सूची Pakistan को सौंपी। Pakistan ने अपने यहां कैद 54 नागरिकों व 270 मछुआरों की सूची सौंपी जो कि भारतीय हैं या माना जाता है कि वे भारतीय हैं।

सरकार ने Pakistan की हिरासत से नागरिक बंदियों की जल्द रिहाई और प्रत्यावर्तन, लापता भारतीय रक्षा कर्मियों और मछुआरों को उनकी नौकाओं के साथ वापस भेजने की मांग की है।

बयान में कहा गया है कि Pakistan से उन सात भारतीय नागरिक कैदियों और 106 भारतीय मछुआरों की रिहाई और उनके भारत प्रत्यावर्तन में तेजी लाने के लिए कहा गया है जिनकी राष्ट्रीयता की पुष्टि की जा चुकी है। इसके अलावा, Pakistan से भारतीय मछुआरों और भारतीय माने जाने वाले 18 नागरिक कैदियों को तत्काल राजनयिक पहुंच प्रदान करने के लिए कहा गया है।

नई दिल्ली ने Islamabad से चिकित्सा विशेषज्ञों की टीम के सदस्यों को वीजा देने में तेजी लाने और उनके Pakistan के दौरे को सुविधाजनक बनाने के लिए कहा है, जिन्हें मानसकि रूप से कमजोर भारतीय माने जाने वाले कैदियों की मानसिक स्थिति का आकलन करने के लिए Pakistan जाना है। इसके साथ ही संयुक्त न्यायिक समिति की शीघ्र Pakistan यात्रा का आयोजन करने और मछली पकड़ने वाली भारतीय नौकाओं को वापस भारत भेजने के सिलसिले में Karachi जाने के लिए चार सदस्यीय टीम के दौरे को भी संभव बनाने के लिए कहा गया है।

Also Read:  कमाल है! Pakistan की ये औरत 20 हजार में गरीब के लिए बना देती है घर

सरकार ने कहा कि भारत एक-दूसरे के देश में कैदियों और मछुआरों से संबंधित मानवीय मामलों को प्राथमिकता के आधार पर देखने के लिए प्रतिबद्ध है। इस संदर्भ में भारत ने Pakistan से यह भी आग्रह किया है कि वह मछुआरों सहित 88 Pakistani कैदियों की राष्ट्रीयता की स्थिति की पुष्टि के लिए आवश्यक कार्रवाई में तेजी लाए, जिनका प्रत्यावर्तन Pakistan द्वारा राष्ट्रीयता की पुष्टि के संदर्भ में लंबित है।

–आईएएनएस

For the latest news like The Jaisalmer News page on Facebook, & Twitter.