पोकरण थाने में आत्मदाह का मामला: प्रशासन के 9 सूत्री मांगे मानने के आश्वासन के बाद हुआ गिरधारीराम का अंतिम संस्कार

The case of self-immolation in Pokaran police station Girdhariram's last rites after the administration assured to agree to 9-point demands

Jaisalmer News: रामदेवरा की सोहनसिंह की ढाणी निवासी गिरधारीराम भील द्वारा पोकरण थाने में आत्मदाह करने और फिर मौत के बाद मंगलवार को दिन भर परिजन अपनी मांगो को लेकर अड़े रहे. शाम को समझौता वार्ता के बाद मृतक के शव का अंतिम संस्कार किया गया. मामले को लेकर दलित संगठनो की धमकी के बाद प्रशासन पूरी तरह अलर्ट रहा. रामदेवरा सरपंच सहित एक अन्य को इस मामले में गिरफ्तार किया जा चूका है.

दलित संगठनों व परिजनों ने 9 सूत्री मांगों के मांगने के बाद ही अंतिम संस्कार करने की बात कही

पोकरण थाने में आत्मदाह का मामला: प्रशासन के 9 सूत्री मांगे मानने के आश्वासन के बाद हुआ गिरधारीराम का अंतिम संस्कार 1

मंगलवार को सुबह 10 बजे से मृतक गिरधारी राम के खेत मे 9 सूत्री मांगों को लेकर मृतक के परिजनों व विभिन्न दलित संगठनों की ओर से दिया गया धरना. शाम को कैबिनेट मंत्री सालेह मोहम्मद के दारा पूरी करवाने का दूरभाष पर दिये आश्वासन के बाद भारी पुलिस जाब्ते के बीच गिरधारी राम के खेत मे ही उसका अंतिम संस्कार विधिवत रूप से किया गया।

टांका विवाद में गिरधारी राम भील के आत्मदाह के बाद हुई थी मौत

जानकारी के अनुसार गिरधारी राम भील का खेत सोहनसिंह की ढाणी के पास आया है। मृतक गिरधारी भील व सोहन सिंह की ढाणी के लोगो के बीच रविवार को गिरधारी राम के खेत में उसके टांके बनाने व उसे पड़ोसियो के दारा तोड़ने के विवाद गिरधारी राम भील के पोकरण तहसील व पोकरण एसडीएम ऑफिस में जाने के बाद वहा उसे कोई नही मिलने पर हताश होकर गिरधारी राम के पोकरण पुलिस थाने के बाहर पेट्रोल डालकर अपने शरीर को आग लगाने की घटना में गिरधारी राम का शरीर 50से 60 फीसदी जल गया था।

Also Read:  पोकरण में कोरोना जन जागरूकता अभियान का आगाज

घायल गिरधारी राम को जोधपुर रेफर करने से पूर्व पोकरण में मजिस्ट्रेट व पुलिस को उसने नामजद लोगो के विरुद प्रताड़ित करके मारपीट करने का आरोप लगाते हुए परेशान होकर आत्महत्या जैसा कदम उठाने की बात कही थी।

उपचार के दौरान घायल गिरधारी राम की जोधपुर में इलाज के दौरान मौत हो गई। मंगलवार को गिरधारी राम का शव उसके खेत मे एंबुलेंस से लाये जाने के बावजूद परिजन व विभिन दलित संगठनों ने 9 सूत्री मांगों के पूरी होने तक अंतिम संस्कार करने से मना कर दिया।

इस दौरान अतिरिक्त जिला कलेक्टर ओमप्रकाश विश्नोई, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक राकेश कुमार बेरवा, पोकरण उपखंड अधिकारी अजय अमरावत, तहसीलदार बंटी राजपूत, पुलिस उप अधीक्षक मोटाराम चौधरी सहित अन्य प्रशासनिक अधिकारी उपस्थित रहे।

दिभर चली वार्ता के बाद कैबिनेट मंत्री के 9 सूत्री मांगे मानने के आश्वासन के बाद हुआ गिरधारीराम का अंतिम संस्कार

पोकरण थाने में आत्मदाह का मामला: प्रशासन के 9 सूत्री मांगे मानने के आश्वासन के बाद हुआ गिरधारीराम का अंतिम संस्कार 2

वही शाम को करीब साढ़े चार बजे कैबिनेट मंत्री सालेह मोहम्मद के दारा 9 सूत्री मांगों को पूरा करने का दूरभाष पर आश्वासन दिया। उसके बाद कैबिनेट मंत्री सालेह मोहम्मद के भाई व पूर्व जिला प्रमुख अब्दुला फकीर के मौके पर पहुँच कर धरना समाप्त करवाया गया। वही इस दौरान पुलिस का भारी जाब्ता उपस्थित रहा। उसके बाद गिरधारी राम भील के शव का अंतिम संस्कार किया गया।