झूठ और राजनीति से प्रेरित थे कपिल मिश्रा के आरोप : मंत्री सत्येंद्र जैन

झूठ-और-राजनीति-से-प्रेरित-थे-कपिल-मिश्रा-के-आरोप-:-मंत्री-सत्येंद्र-जैन

नई दिल्ली, 29 अक्टूबर । भाजपा के नेता कपिल मिश्रा ने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन पर रिश्वत के आरोप लगाए थे, जिनपर अब कपिल मिश्रा ने कोर्ट में माफी मांगी है। स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने इन आरोप को राजनीति से प्रेरित बताया है।

दिल्ली की केजरीवाल सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा, कपिल मिश्रा ने मेरे उपर लगाए रिश्वत के आरोपों पर कोर्ट में बिना शर्त माफी मांगते हुए स्वीकार किया है कि उनका आरोप राजनीति से प्रेरित था।

सत्येंद्र जैन ने कहा, 2017 में जब कपिल मिश्रा को दिल्ली कैबिनेट से निकाला गया था तो उन्होंने भद्दे और आपत्तिजनक आरोप लगाए और कहा मैंने मुख्यमंत्री को 2 करोड रुपए रिश्वत के रूप में दिए हैं और कपिल मिश्रा ने मुझे यह रुपए देते हुए देखा है। यह आरोप काफी आपत्तिजनक थे और मैं बहुत आहत हुआ। इसलिए मैंने कपिल मिश्रा के खिलाफ कोर्ट में क्रिमिनल केस दायर किया।

सत्येंद्र जैन ने कहा, बुधवार को लिखित में कपिल मिश्रा ने कोर्ट के सामने अपने आरोपों पर माफी मांगी है। उन्हें लगा कि आरोपों को साबित करने की बारी आ रही है लेकिन यह आरोप झूठे हैं तो उन्होंने माना कि आरोप राजनीति से प्रेरित थे, झूठे थे, गलत थे। इसके साथ ही कपिल मिश्रा ने माफी मांगते हुए कहा कि भविष्य में वह ऐसे आरोप फिर नहीं लगाएंगे।

आम आदमी पार्टी के विधायक सौरभ भारद्वाज ने इस विषय पर कहा, कोर्ट में कपिल मिश्रा के बिना शर्त माफी मांगने से यह साफ होता है कि उनके द्वारा लगाए गए आरोपों के पीछे भारतीय जनता पार्टी का हाथ था। कपिल मिश्रा ने अपने सभी सोशल मीडिया हैंडल के जरिए भी माफी मांगने का आश्वासन दिया है, अगर वे सोशल मीडिया पर माफी नहीं मांगते हैं, तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

वर्ष 2017 में कपिल मिश्रा ने कहा था कि सत्येंद्र जैन ने केजरीवाल को दो करोड़ रुपये नगद रिश्वत दी है, और मैंने अपनी आंखों से यह सब देखा है।

जैन ने कहा, कपिल मिश्रा के आरोपों की वजह से मैं बुरी तरह आहत हुआ था। कपिल मिश्रा से जब पार्टी के लोगों ने पूछा कि आप किस समय और कब मुख्यमंत्री आवास में गए थे। तब वो इस बारे में कुछ नहीं बता सके, क्योंकि उनके द्वारा लगाए गए सभी आरोप बेबुनियाद और झूठे थे।

–आईएएनएस

जीसीबी/आरएचए