Chandra Datta Subedi Ji Maharaj
Chandra Datta Subedi Ji Maharaj

जैसलमेर के महाराणा प्रताप मैदान (Maharana Pratap Ground Jaisalmer) में आयोजित भागवत कथा ( Shree Mad Bhagwat Katha) के दूसरे दिन चंद्रदत्त सुबेधी जी महाराज (Chandra Datta Subedi Ji Maharaj) द्वारा सेकड़ो की संख्या में आये भक्तो को कथा का श्रवण करवाया।

जैसलमेर के केला परिवार द्वारा आयोजित कथा में कथा वाचक आचार्य चंद्रदत्त सुबेदी जी ने कहा कि भागवत कथा कली के समस्त दोसो को हर लेती है। बशर्ते यह है कि हम श्रद्धा भक्ति एवं विश्वास से कथा करे।

संत की महिमा का वर्णन करते हुए उन्होने कहा कि संत किसी का थोड़ा भी लेते है तो उद्धार करते है। जैसे विधुर जी संत है उन्होंने धृतराष्ट्र का कल्याण कर दिया संत संत हमारे जीवन मे पाप ताप संताप तीनो को मिटा देते है। उतर के गर्भ की रक्षा कुंती जी का भगवान से प्रेम, भीष्म पितामह की दिव्य स्तुति महाराज परीक्षित के जन्म की कथा का विस्तार से वर्णन किया।

कली के दोष को हरण करती है भागवत की कथा-चंद्रदत्त सुबेदी जी महाराज 1


महाराज जी द्वारा कथा में व्यास पीठ द्वारा भीष्म पितामह व कृष्णा की लीला का वर्णन किया। कृष्णा भगवान ने जीवन के आखरी समय मे अपने कर्मो को याद करना चाहिए। जीवन मे सदा सद्कर्म का कार्य करने से स्वर्ग के मार्ग प्रसस्त होते है।

जैसा हो संग वैसा चढ़े रंग

कथा में भक्तो को सदैव ऐसे ही लोगो का साथ रहना चाहिए जो धर्म के मार्ग पर हो। अधर्मी का साथ हमेसा व्यक्ति को काल की और ले जाता है। संतो के संग से आपकी बिगड़ी बनेंगे