रिपोर्ट-में-पाकिस्तान-में-भ्रष्टाचार-बढ़ने-की-बात-नहीं-कही-:-टीआईपी

इस्लामाबाद, 26 जनवरी । ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल पाकिस्तान (Pakistan)(टीआईपी) ने रविवार को कहा कि उसने अपनी हालिया रिपोर्ट में यह नहीं कहा है कि पाकिस्तान (Pakistan)में भ्रष्टाचार बढ़ा है। भ्रष्टाचार पर निगाह रखने वाली इस गैर सरकारी संस्था ने कहा है कि उसकी रिपोर्ट को गलत तरीके से पेश कर पाकिस्तान (Pakistan)की साख पर दाग लगाने की कोशिश की गई है।

ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल ने बीते हफ्ते जारी अपने भ्रष्टाचार सूचकांक 2019 में बताया था कि पाकिस्तान (Pakistan)भ्रष्टाचार के मामले में बीते साल की तुलना में तीन पायदान और नीचे गया है। इसके बाद पाकिस्तान (Pakistan)में विपक्षी दलों ने सत्तारूढ़ इमरान सरकार पर तीखे हमले बोलते हुए कहा था कि इससे सरकार के भ्रष्टाचार की सत्यता सामने आ गई है जबकि सरकार ने रिपोर्ट को पक्षपातपूर्ण बताते हुए इसे खारिज कर दिया था।

ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल पाकिस्तान (Pakistan)के चेयरमैन सुहैल मुजफ्फर ने रविवार को एक बयान जारी कर कहा है कि उनकी संस्था की रिपोर्ट में यह नहीं कहा गया है कि पाकिस्तान (Pakistan)में भ्रष्टाचार बढ़ा है। 2018 की तुलना में 2019 में महज एक अंक की गिरावट से न यह साबित होता है कि पाकिस्तान (Pakistan)में भ्रष्टाचार बढ़ा है और न ही यह साबित होता है कि भ्रष्टाचार घटा है क्योंकि मात्र इतनी कमी या आधिक्य उसके स्टैंडर्ड मार्जिन ऑफ एरर के दायरे में आता है।

मुजफ्फर ने अपने बयान में कहा है, राजनैतिक नेताओं और मीडिया ने हमारी रिपोर्ट को गलत तरीके से पेश किया है। गलत आंकड़े पेश कर पाकिस्तान (Pakistan)की साख को नुकसान पहुंचाने की कोशिश की जा रही है।

उन्होंने पाकिस्तान (Pakistan)की मौजूदा सरकार के भ्रष्टाचार रोधी कदमों को सराहा भी और इस संबंध में जवाबदेही ब्यूरो की कार्रवाइयों का उल्लेख किया।

मुजफ्फर ने यह भी साफ किया कि सूचकांक में शामिल डेटा ट्रांसपेरेंसी इंटरनेशनल का नहीं होता बल्कि इसमें तेरह विभिन्न जगहों से इकट्ठा किए गए आंकड़े होते हैं।

–Indo Asian News Service

Read : Latest News | Hindi | Business | Sports | Entertainment |