Scorpio Horoscope 2020

Scorpio Horoscope 2020: वृश्चिक राशि का स्वामी मंगल ग्रह होता है। राशिचक्र में इसका आठवां स्थान होता है। इस राशि के व्यक्ति का स्वभाव गरम होता है। इनका क्रोध कितना भी क्यों न हो हृदय में दयाभाव रहता है। इर राशि के लोग दूसरों के कामों बेवजह हस्तक्षेप नहीं करते हैं और न ही किसी को अपने कामों में दखलअंदाजी बर्दाश्त करते हैं। यह राशि विशाखा नक्षत्र के  चौथे चरण  , अनुराधा नक्षत्र के चारों चरण तथा ज्येष्ठा नक्षत्र के चारों चरण से मिलकर बनी होती है । इस प्रकार इस राशि के कुल9 चरण और प्रत्येक चरण 3 अंश 20 कला का होता है ।जो संपूर्ण वृश्चिक राशि का निर्माण , इन नौ चरणों को समाहित करके   30 अंश की बनी होती है। आपकी राशि साढ़ेसाती का अंतिम ढैय्या शनि  24 जनवरी 2020 तक  प्रभाव शील रहेगा।  24 जनवरी के बाद साढ़ेसाती का प्रभाव समाप्त हो जाएगा।  

वृश्चिक राशि का वार्षिक राशिफल वर्ष 2020 के लिए

वर्ष की शुरुआत में 24 जनवरी को शनि का परिवर्तन हो रहा है जो कि आपकी राशि से सुख भाव के मालिक होकर पराक्रम में स्वराशिगत गोचर कर रहे हैं। यह आपके पराक्रम की उन्नति के लिये इसमें वृद्धि के योग बनाते हैं। परन्तु यह स्थान छोटे भाई का स्थान भी है इसलिये छोटे भाई-बहनों के भविष्य को लेकर भी आप चिंतित रह सकते हैं।

30 मार्च को गुरु राशि परिवर्तन कर शनि के साथ मकर राशि में होंगे। गुरु आपकी राशि से पंचम व धन भाव के स्वामी हैं। शनि के साथ विराजमान होने से यह आपकी राशि से पराक्रम स्थान में नीचभंग राजयोग बना रहे हैं। यह योग आपके पराक्रम के लिये बहुत ही महत्वपूर्ण रहने वाला है क्योंकि यहां आपके अंदर ऊर्जा का संचार करेंगें।

गुरु की दृष्टि आपके भाग्य स्थान पर भी पड़ रही है जिसके कारण भाग्य का भी आपको भरपूर सहयोग मिलेगा। साथ ही सप्तम भाव में भी गुरु की पंचम दृष्टि भी आपकी फेमिली लाइफ को मधुर बनाएंगें। जीवनसाथी का भरपूर सहयोग प्राप्त होगा। प्रेम प्रसंगों में भी सुख मिलेगा। प्रेम विवाह के भी योग आपके लिये बन सकते हैं।

ज्यादा आत्मविश्वास भी परेशानी खड़ी कर सकता है। धैर्य से कार्य करें आपको सफलता निश्चित रूप से मिलेगी। क्योंकि शनि मंगल की राशि में हैं और केतु का फल अधिकांश मंगल के जैसे ही होता है। 29 सितंबर को शनि के मार्गी होने पर रूके हुए काम बनने लगेंगें।

छोटे भाई बहनों से भी कोई शुभ समाचार सुनने को मिल सकता है। छोटी छोटी मगर सफलतादायक यात्राएं भी हो सकती हैं। 20 नवंबर को गुरु पुन: मकर राशि में आ जाएंगें जिससे पुन: आपके कार्यों आपके पराक्रम में उन्नति होगी। भाग्य आपका साथ देने लगेगा। तथा अपने दिमाग का पूरा इस्तेमाल करने से आपको मान-सम्मान भी प्राप्त होगा।

वृश्चिक राशि वालों के लिये वार्षिक राशिफल 2020 के अनुसार यह वर्ष आपके लिये सफलता व समृद्धि देने वाला कहा जा सकता है। हालांकि वर्ष के कुछ समय में उतार-चढ़ाव भी आप देखेंगे लेकिन कुल मिलाकर देखा जाए तो आपके लिये इसे उपलब्धियों भरा वर्ष समझा जाना चाहिए।


वृश्चिक राशि आर्थिक जीवन 2020

साल 2020 में आपको वित्तीय लाभ प्राप्त होंगे। आपकी आय के स्रोत में वृद्धि होगी। यदि आपने किसी से धन उधार लिया है तो आप इस साल उसे चुका सकते हैं। अगर कोई बड़ा आर्थिक फैसला लें, तो अनुभवी लोगों की सलाह अवश्य लें।


वृश्चिक राशि करियर-व्यापार 2020

नौकरी-पेशा के लिए साल 2020 मिलाजुला रह सकता है। इस दौरान आपका कभी अपने कार्यक्षेत्र में कमजोर पड़ेंगे तो आपका साहस और आत्मविश्वास आपको नया मार्ग दिखाएगा। कुछ मामलों में भाग्य भी आपका साथ देगा। अपने कार्य के परिणाम को लेकर हताश होने की आवश्यकता नहीं है। बल्कि आपको उससे सीख लेने की आवश्यकता होगी।


वृश्चिक राशि पारिवारिक जीवन 2020

वर्ष की शुरुआत में परिजनों के साथ अच्छा समय गुजरेगा। यदि संतान विवाह योग्य है तो उसके रिश्ते की बात चल सकती है। घर में किसी तरह की अशांति चल रही है तो उसमें वह दूर होगी। आप अपने परिवार के प्रति अपने उत्तरदायित्व को भलिभांति समझेंगे। समाज में आपका और आपके परिवार वालों का मान-सम्मान बढ़ेगा। अक्टूबर में परिजनों के साथ सुखद समय बिताने का मौक़ा मिलेगा। हालांकि नवंबर में परिवार की जरुरतों पर अधिक धन खर्च हो सकता है। वर्ष के अंतिम माह में आपको अपनी संतान की सेहत पर ध्यान देना होगा। मित्रों के साथ कहीं घूमने की योजना बना सकते हैं।


वृश्चिक राशि प्रेम-विवाह 2020

प्रेम जीवन के लिए नया साल आपके लिए मिलाजुला रहेगा। इस वर्ष आपकी लव लाइफ़ में उतार-चढ़ाव आएंगे। प्रेम जीवन में असुरक्षा की भावना रहेगी। प्रियतम के साथ वैचारिक मतभेद होने से आपको परेशानी हो सकती है। लव पार्टनर पर शक करने ब्रेक अप होने की संभावना है।


वृश्चिक राशि स्वास्थ्य 2020

इस वर्ष आपको आपको स्वास्थ के क्षेत्र में मिले जुले परिणाम प्राप्त हो सकते हैं। इस वर्ष आपको मानसिक बेचैनी रह सकती है। ऐसी स्थिति में दैनिक रूप से ध्यान और योग करें। स्वास्थ्य के प्रति किसी तरह की लापरवाही न बरतें।


उपाय: 107 बार चंद्र मंत्र का पाठ करें। चन्द्र के उपायों से लाभ मिलेगा।