Tiddi Dal Latest News

Jaisalmer News: पिछले कुछ महीनो से जैसलमेर और बीकानेर में टिड्डी नियंत्रण के नाम पर करोड़ों के वारे न्यारे करने वाले टिड्डी नियंत्रण विभाग के अधिकारीयों और कर्मचारियों के लिए बुरी खबर है.

टिड्डियों ने वापिस ओमान और यमन का रूख कर लिया है, सयुंक्त राष्ट्र संघ के खाध और कृषि संगठन के ताजा बुलेटिन के अनुसार सर्दियों के प्रजनन के लिए टिड्डी दल वापिस पाकिस्तान के दक्षिणी पश्चिमी हिस्से और ईरान के पूर्वी हिस्से का रूख करेगी.

वंही जोधपुर स्थित टिड्डी चेतावनी संगठन के निदेशक डॉ. के.एल.गुर्जर ने राजस्थान पत्रिका से बातचीत में कहा है कि भुज पहुंचे टिड्डी दल पर नियंत्रण कर लिया गया है और बीकानेर के बज्जू तथा जोधपुर के बाप तथा जैसलमेर के मोहनगढ़ में टिड्डी दल को खत्म करने के प्रयास जारी है.

विभाग के अफसर कुछ भी दावे करे जमीनी हकीकत कुछ और ही है टिड्डी दल नियंत्रण का ज्यादातर कार्य कागजों में ही खानापूर्ति करके किया गया है. आखिर २६ साल बाद हाथ आये ऐसे सुनहरे मौके को भला विभाग के होनहार हाथ से कैसे जाने देते.

कई किसानो ने टिड्डी नियंत्रण केंद्र पर कॉल कर स्प्रे की जरूरत बताई उन्हें जवाब दिया गया कि आपके पास गाडी पहुँच जायेगी मगर वंहा आजतक गाडी नहीं पहुंची है. वंही कुछ जगहों पर स्प्रे करने गई टीमों द्वारा किसानो से पैसे लेकर पहले उनके खेतों के आसपास स्प्रे करने की भी बात सामने आई है .

हालाँकि बताया जा रहा है कि साढ़े छह करोड़ का पेस्टीसाइड और अन्य खर्चे मिलाकर करीब 10 करोड़ रूपये इस कार्य के लिए खर्च किये जा चुके है. जबकि जैसलमेर के नाचना, भारेवाला, बाहला क्षेत्र में टिड्डियों ने किसानो के खेतो को चट कर दिया है.

नवंबर में लगभग सारी टिड्डियाँ वापिस लौट जायेगी, वर्तमान में चल रही तूफानी हवाएं उनको वापिस ले जाने में लगी है और विभाग के पास सिर्फ कुछ दिन ही बचे है, उनके टिड्डीमार पुरे जूनून से लगे है.

फिर पता नहीं टिड्डी कितने साल बाद लौटेगी ……………….!