Jaisalmer News: शिव से विधायक कांग्रेस के वयोवृद्ध नेता अमीन खान को 13 जुलाई को विधानसभा में मंगणियार और लंगा जाति को भिखारी कहना और उनके घर खाना हराम बताना महंगा पड़ रहा है।

विधानसभा में बोलते हुवे अमीन खान ने कहा था कि ” हमारे धर्म मे मेघवाल के यंहा खा सकते है,पर मंगनियार के यंहा खाना हराम है,क्योंकि ये भीख मांगते है। भीख मांगना और चोरी करना एक समान समझे गए है।

विधायक के इस बयान के बाद लोक – गायकी कर देश की सांस्कृतिक विरासत को सहेजे रखने वाले लोक कलाकार बहुत गुस्से में है।

मंगणियार व लंगा समाज के लोगो ने प्रदेशभर में इस बयान पर विरोध जताते हुवे मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन भेजें है। जैसलमेर में अतिरिक्त जिला कलेक्टर भागीरथ विश्नोई को ज्ञापन दिया गया।

जैसलमेर जिला मिरासी मंगणियार विकास समिति के अध्यक्ष मूसे खां ने कहा कि ये अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त लोक कलाकारों का अपमान है। इस जाति के कलाकारों को विभिन्न नागरिक सम्मानों से नवाजा गया है।

ज्ञापन में कहा गया है कि उक्त टिप्पणी को विधानसभा की कार्यवाही से हटाया जाये तथा शिव विधायक अमीन खान अपने बयान के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगे,अन्यथा लोक कलाकारों द्वारा धरना प्रदर्शन व आंदोलन किया जाएगा।