Ayodhya Verdict Superme Court Decision - 9 november 2019- ayodhya mandir babri masjid faisla

Supreme Court Give Decision On Ayodhya Verdict: 9 November 2019


नई दिल्ली: भारत के सुप्रीम कोर्ट की पांच जजों की बेंच ने सवा सौ साल पुराने अयोध्या विवाद में शनिवार को सुबह 10:30 पर राम मंदिर और बाबरी मस्जिद विवाद पर अपना ऐतिहासिक फैसला सुना दिया है.


चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई , जस्टिस एस ए बोबडे, जस्टिस धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ , जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस अब्दुल नजीर की 5 सदस्यीय बेंच शनिवार की सुबह साढ़े दस बजे फैसला सुनाया.

  • शिया – सुन्नी मामले में शिया वक्फ बोर्ड की याचिका ख़ारिज कर दी गई है.
  • मीर बांकी ने बाबर के वक्त ये मस्जिद बनाई थी.
  • 22 दिसंबर 1949 को मूर्तियां रखी गईं-जज.
  • निर्मोही अखाड़े का कोई अधिकार नहीं.
  • रामलला विराजमान पर मालिकाना हक.
  • रामजन्म भूमि स्थान क़ानूनी जगह नहीं.
  • जंहा मस्जिद बनाई गई वंहा पहले मंदिर था.
  • बाबरी मस्जिद खाली जमीन पर नहीं बनी थी.
  • खुदाई में जो मिला इस्लामिक ढ़ांचा नहीं था.
  • एएसआई ने कहा 12वीं सदी का मन्दिर.
  • निर्मोही अखाड़े का दावा खारिज किया.
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा निर्मोही अखाड़ा सेवादार नहीं है.
  • एएसआई ने मस्जिद और ईदगाह का जिक्र नहीं किया.
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला पारदर्शिता के साथ हुआ.
  • हिन्दू आस्था गलत होने का कोई प्रमाण नहीं .
  • हिन्दू पक्ष ने राम से जुड़े ऐतिहासिक ग्रंथों के पक्ष रखे.
  • जमीन पर विवाद का फैसला कानूनी आधार पर.
  • हिन्दु्ओं की आस्था है कि अयोध्या में राम का जन्म हुआ था.
  • अयोध्या में राम के जन्म के दावे का विरोध किसी ने भी नहीं किया.
  • मुस्लिम पक्ष इस जमीन पर अपना एकाधिकार साबित नहीं कर पाया.
  • सीता रसोई, सिंहद्वार और वेदी का जिक्र .
  • अंग्रेजों ने दोनों हिस्से अलग रखने के लिए रेलिंग बनाई थी.
  • न्यायालय ने कहा कि राजस्व रिकॉर्ड के अनुसार विवादित भूमि सरकारी है .
  • हिन्दू सीता रसोई में पूजा करते थे.
  • मुस्लिम पक्ष को दूसरी जगह देने का आदेश.
  • मुस्लिम और हिन्दू पक्ष का दावा एक जैसा .
  • यात्रियों के वृत्तांत और पुरातात्विक सबूत हिन्दुओं के पक्ष में.
  • अंग्रेजों के समय (18वीं सदी तक) तक नमाज का कोई सबूत नहीं.
  • रामलला का दावा बरक़रार.
  • रामजन्म भूमि न्यास को जमीन दे दी जाती है.
  • ट्रस्ट बनाकर मन्दिर बनाने का आदेश.
  • बाहरी अहाते में 1885 तक हिन्दू पूजा करते थे.
  • जमीन के 3 हिस्से किए जाने के इलाहाबाद हाई कोर्ट के फैसलो को सही नहीं माना.
  • विवादित ढांचा गिराना कानून को तोड़ने जैसा.
  • सुन्नी वक्फ बोर्ड को अयोध्या में ही 5 एकड़ जमीन उपलब्ध करवाने के निर्देश .
  • सुन्नी पक्ष ने विवादित स्थान को मस्जिद घोषित करने की मांग की.
  • अयोध्या में रामलला की जीत,अयोध्या में राम मंदिर बनाने का रास्ता साफ.

5 जजों की बेंच ने 16 अक्टूबर को इस मामले की सुनवाई पूरी की थी. संविधान पीठ के अन्य सदस्यों में न्यायमूर्ति एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस अब्दुल नजीर भी शामिल हैं.

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने शुक्रवार को यूपी के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी और प्रदेश के पुलिस महानिदेशक ओम प्रकाश सिंह को अपने केबिन में बुलाकर उनसे राज्य में सुरक्षा बंदोबस्तों और कानून व्यवस्था के बारे में जानकारी प्राप्त की थी.

CJI रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ ने, अयोध्या में 2.77 एकड़ विवादित भूमि तीन पक्षकारों-सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला विराजमान- के बीच बराबर बराबर बांटने के इलाहाबाद हाईकोर्ट के सितंबर, 2010 के फैसले के खिलाफ दायर अपीलों पर छह अगस्त से रोजाना 40 दिन तक सुनवाई की थी.

Superme Court Decision Ayodhya Verdict Today
Ayodhya Case Final Verdict Updates


फैसले के दौरान यूपी के सीएम योगी कण्ट्रोल रूम में बैठे रहे और उत्तर प्रदेश के चप्पे चप्पे पर नजर रखी जा रही थी.

देश के सभी राज्यों में धार्मिक संगठनों,राजनैतिक दलों और पुलिस ने लोगो को शांति बनाये रखने की अपील की थी और कोर्ट के फैसले का सम्मान करने को कहा था.

फैसले को देखते हुवे सुप्रीम कोर्ट में बहुत कड़ी सुरक्षा का इंतजाम किया गया था, कोर्ट की कार्यवाही समय पर शुरू हुई बेंच ने अपना फैसला सुनाया.

जैसलमेर का नंबर #1 समाचार पोर्टल: The Jaisalmer News