एक्शन में ब्रह्माकुमारी आश्रम प्रशासन, कहा दोषियों को बख्शेंगे नहीं

Jodhpur News / कुछ दिनों से फिर से सुर्खियों में आया ब्रह्माकुमारी आश्रम (Brahma Kumari Ashram) अपने ही लोगों द्वारा दी गई बदनामी के दाग हटाने के लिए अब पूरी तरह से एक्शन मोड पर है। दोषी लोगों के खिलाफ जहां पुलिस में मामला दर्ज करवाया गया है वहीं जिन पर आरोप लगे हैं उन्हें जांच पूरी होने तक सस्पेंड कर दिया गया है।

इस बीच ब्रह्माकुमारी आश्रम (Brahma Kumari Ashram) के एक पदाधिकारी पर उछले दैहिक शोषण के आरोपों ने पूरी दुनिया भर में संशय उत्पन्न्न कर दिया था। सवाल यह खड़ा हुआ था कि आखिर यह हो क्या रहा है? इसके बाद आश्रम प्रशासन हरकत में आया।

ब्रह्माकुमारी आश्रम प्रशासन ने हालांकि अब आरोपों को साजिश करार दिया है लेकिन साथ ही कहा है कि वो इसकी पूरी जांच करवा रहे हैं।

आश्रम प्रशासन का मानना है कि ब्रह्माकुमारीज संस्थान देश और दुनिया में पिछले 84 वर्षों से लोगों के जीवन में सकारात्मक बदलाव श्रेष्ठ और आदर्श जीवन आध्यात्मिक ज्ञान और राजयोग के जरिए बनाने का प्रयास कर रही है। दुनिया की संभवत: यह एक मात्र संस्था है जिसका संचालन माताओं बहनों के हाथों में है।

पिछले दिनों संस्थान के बीके भरत भाई (BK Bharat Bhai) ने उन्हें ब्लैक मेल कर रहे दो लोग देवेश और सुखविन्दर सिंह के खिलाफ आबू रोड सदर थाने में मामला दर्ज कराया था।

किन्हीं लोगों ने दैहिक शोषण के आरोप पूरी तरह साजिश के तहत ही लगाए हैं। यह सुनियोजित षड़यंत्र है।आश्रम प्रशासन का मानना है कि चूंकि ब्रह्माकुमारीज संस्थान आदर्श और श्रेष्ठ मूल्यों के लिए जानी जाती है। इसलिए इन आरोपों को भी पूरी गंभीरता से लिया गया है।

Also Read:  राजस्थान प्राइवेट सिक्योरिटी एजेंसी-2019 लागू

संस्थान के बीके भरत भाई को उनकी सेवाओं से सस्पेंड कर दिया गया है जब तक कि जांच पूरी ना हो जाये। संस्थान ने पुलिस से निष्पक्ष जांच कर ब्लैकमेल कर रहे युवक तथा अन्य दोषियों के खिलाफ सख्त कार्यवाही की मांग की है। ताकि इस तरह का गलत आरोप कोई दुबारा ना लगा सके।

क्या कहता है आश्रम प्रशासन

ब्रह्माकुमारीज संस्थान अपनी सादगी, आध्यात्मिकता और पवित्र जीवन के लिए पूरे विश्व में प्रसिद्ध है। यहॉं दुनिया भर से लोग राजयोग ध्यान कर अपने जीवन के महान और श्रेष्ठ बनाने के लिए आते रहते हैं। -बीके भूपाल, प्रबन्धक, ब्रह्माकुमारीज, शांतिवन (Brahma Kumaris Shantivan).