Jaipur News: राजस्थान में राज्य सभा चुनाव (Rajya Sabha Chunav) की वोटिंग में आस्ट्रेलिया से लौटे विधायक वाजिब अली (Wajib Ali  MLA) से मतदान करवाना कांग्रेस को महंगा पड़ गया. बीजेपी ने वाजिब अली पर महामारी एक्ट का उल्लंघन कर विधायकों अधिकारियों की जान खतरे में डालने का मुकदमा दर्ज करवा दिया है.

दरअसल नगर सीट से विधायक वाजिब अली एक दिन पहले ही आस्ट्रेलिया से लौटे थे. सुबह जब वे वोट डालने आए तो उन्हें मत पत्र दे दिया गया, लेकिन इसी बीच बीजेपी के उपनेता प्रतिपक्ष राजेंद्र राठौड़ ने आपत्ति जताई कि विधायक एक ही दिन पहले विदेश से लौटे हैं. इस पर निर्वाचन अधिकारी ने उनका मतपत्र ले लिया. इसके बाद उन्होंने पीपीई किट (PPE KIT) पहनकर अपना मत डाला.

बीजेपी के आईटी सेल से जुड़े पदाधिकारी ने बताया कि ” वाजिब अली विधायक, ऑस्ट्रेलिया से पधारे हैं, 14 दिवस उन्हें क्वारण्टाइन रहना चाहिए था किंतु वे राज्यसभा चुनाव में वोटिंग करने पहुंच गए तथा सत्ता पक्ष के बीच घुले मिले.. कोई साधारण व्यक्ति, आप या मैं भी होता तो अबतक FIR दर्ज हो चुकी होती ..क्वारण्टाइन अवधि में सार्वजनिक स्थल पर जाना महामारी अधिनियम के अंतर्गत आपराधिक कृत्य है.

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया के ऑफिस से फेसबुक पर पोस्ट डालकर इसके विरुद्ध सवाल खड़े किये गए है. वहीं बीजेपी विधि प्रकोष्ठ के संयोजक सुरेंद्र सिंह नरूका ने इसको लेकर विधायक की पुलिस में शिकायत की है. विधायक वाजिब अली पर सभी विधायकों , पत्रकारों, विधानसभा कर्मियों को जान से मारने की कोशिश का आरोप लगाते हुवे शिकायत दर्ज करवायी गयी है.

नरूका ने ज्योति नगर थाने में महामारी एक्ट के उल्लंघन को लेकर शिकायत दर्ज कराई गई है. शिकायत में कहा है कि वाजिब अली ऑस्ट्रेलिया से आकर विधानसभा वोट डालने पहुंचे। इससे उन्होंने सभी विधायक, स्टाफ, सुरक्षाकर्मियों, निर्वाचन आयोग के अधिकारी एवं कर्मचारियों, मीडिया कर्मियों की जान को खतरे में डाली. इसलिए उनके खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई की जाए.