swasth jaisan ahiyan
swasth jaisan ahiyan
  • सरहदी जिले जैसलमेर में ‘स्वस्थ जैसाण’अभियान का आगाज,
  • बच्चों और गर्भवती महिलाओं की सेहत सँवारने की अभिनव पहल,
  • आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा सहयोगिनियों और एएनएम की टीम का संयुक्त प्रयास

जैसलमेर, 28 नवम्बर/सरहदी जैसलमेर जिले में मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सेवाओं को और अधिक बेहतर बनाते हुए बच्चों और महिलाओं की सेहत सँवारने के लिए जिला कलक्टर नमित मेहता (IAS Namit Mehta) की पहल पर जैसलमेर जिले भर में गुरुवार से ‘स्वस्थ जैसाण’ अभियान शुरू हुआ।

बैनर विमोचन से किया अभियान का शुभारंभ

जैसलमेर डीआरडीए सभागार में आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा सहयोगिनी और एएनएम के लिए जिला प्रशासन, महिला एवं बाल विकास तथा चिकित्सा, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग की ओर से आयोजित एक दिवसीय संयुक्त क्षमतावद्र्धन कार्यशाला में जिलाप्रमुख श्रीमती अंजना मेघवाल (Anjana Meghwal) एवं जिला कलक्टर नमित मेहता (IAS Namit Mehta) ने ‘स्वस्थ जैसाण’ के बैनर का विमोचन कर जिले मेंं इस नवाचारी अभियान का शुभारंभ किया।

इस अवसर पर सहायक निदेशक (लोक सेवा) भारतभूषण गोयल, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.के. बारूपाल, महिला एवं बाल विकास विभागीय उप निदेशक राजेन्द्र चौधरी, उप मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. आ.पी. गर्ग, खण्ड मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. लालचन्द देवन्दा, जिला कार्यक्रम प्रबन्धक(एनएचएम) अजयसिंह कड़वासर, नीति आयोग के एडीपी गौरव द्विवेदी,  पीरामल फाउण्डेशन के जिला समन्वयक नीरज मुंजल सहित जैसलमेर ब्लॉक अन्तर्गत सुलताना, भागू का गांव और चांदन सेक्टर से संबंधित एएनएम, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताएं एवं आशा सहयोगिनी उपस्थित थीं।

पीपीटी फिल्म के जरिये की गई समझाईश

जैसलमेर में ‘स्वस्थ जैसाण’अभियान का आगाज 1

कार्यशाला में संस्थागत प्रसव, टीकाकरण, प्रसव पूर्व जाँच सहित मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य से जुड़ी तमाम प्रकार की सेवाओं के बारे में बहुरंगी चलचित्रात्मक सामग्री के जरिये समझाईश की गई। ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. लालचन्द देवन्दा ने पीपीटी में समाहित संदेशों व सामग्री के बारे में बताया।

जरूरतमन्दों तक पहुंचाएं सुविधाएं

जिलाप्रमुख श्रीमती अंजना मेघवाल (Anjana Meghwal) ने स्वस्थ जैसाण अभियान को जैसलमेर जिले में बच्चों तथा महिलाओं की स्वास्थ्य रक्षा का महत्वपूर्ण अभियान बताते हुए उपस्थित सभी संभागियों से कहा कि वे परस्पर समन्वय एवं सम्पर्क रखते हुए ग्रामीण क्षेत्रों में अपने नेटवर्क को बेहतर और सुदृढ़ बनाएं तथा लक्ष्य समूह के जरूरतमन्दों को सभी प्रकार की सेवाओं तथा सुविधाओं का समय पर लाभ पहुंचाकर अपनी समर्पित भागीदारी अदा करें।

मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सेवाओं में आएगी बेहतरी

जिला प्रमुख ने कहा कि ग्रामीणों की सेवा का जो उत्तरदायित्व मिला है उसे समाज की सेवा तथा अपना फर्ज मानकर पूरा करें और टीम वर्क दिखाते हुए जैसलमेर को मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य की दृष्टि से देश भर में अव्वल स्थान दिलाने में मददगार सिद्ध हों।

कार्यशाला को संबोधित करते हुए जिला कलक्टर नमित मेहता (IAS Namit Mehta) ने स्वस्थ जैसाण अभियान को अपना अभियान मानकर पूरी संवेदनशीलता और गंभीरता से काम करने का आह्वान किया और कहा कि जैसलमेर को मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सेवाओं में उच्चतम श्रेणी में लाने के लिए मिलजुलकर प्रयास करें।

शत-प्रतिशत हों लाभान्वित

जिला कलक्टर ने गर्भवती महिलाओं का सर्वप्रथम चिह्निकरण कर निर्धारित समयावधि में प्रसव पूर्व चार बार जाँचें कराने, संस्थागत प्रसव कराने, नवजात शिशुओं का निर्धारित समय सारणी के अनुसार टीकाकरण करने पर जोर दिया और कहा कि यह आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, आशा सहयोगिनियों और एएनएम का दायित्व है कि जैसलमेर जिले में कोई भी पात्र महिला या बच्चा सेवाआेंं से वंचित न रहे।

गुरुवार को आंगनवाड़ी केन्द्रों पर हो एमसीएचएम दिवस

उन्हाेंंने महिला एवं बाल विकास विभागीय उप निदेशक को निर्देशित किया कि यह सुनिश्चित करें कि हर गुरुवार को जिले के सभी आंगनवाड़ी केन्द्र अनिवार्य रूप से खुलें और एमसीएचएम दिवसों का आयोजन किया जाए। जिला कलक्टर ने कहा कि जिला प्रशासन की ओर से इन दिवसों पर आकस्मिक निरीक्षण कराया जाएगा और जहां कहीं कोई आंगनवाड़ी केन्द्र बन्द पाया जाएगा, वहां के पूरे स्टाफ को हटा दिया जाएगा।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बी.के. बारूपाल ने विश्वास दिलाया कि जिले में मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य सेवाओं को सुदृढ़ एवं उपादेय बनाए जाने के लिए सभी मिलजुलकर सार्थक प्रयास करेंगे।

महिला एवं बाल विकास विभागीय उप निदेशक राजेन्द्र चौधरी ने ‘‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’’ अभियान के प्रति ग्राम्य जागरुकता के बारे में निर्देश दिए।

Read More On This Topic