शौर्य चक्र विजेता की हत्या करवाने वाला गैंगस्टर यूएई से प्रत्यर्पित

शौर्य-चक्र-विजेता-की-हत्या-करवाने-वाला-गैंगस्टर-यूएई-से-प्रत्यर्पित

नई दिल्ली, 31 दिसंबर । आतंकी गतिविधियों में शामिल रहे गैंगस्टर सुखमीत पाल सिंह उर्फ सुख भिखारीवाल को गुरुवार को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) से भारत प्रत्यर्पित किया गया। इसके Pakistan की इंटर-सर्विसेस इंटेलिजेंस के लिए काम करने का भी संदेह है। भारतीय खुफिया एजेंसी ने कहा है कि गैंगस्टर ने शौर्य चक्र पुरस्कार विजेता की हत्या की साजिश रची थी।

वह भारतीय कानून प्रवर्तन एजेंसियों, पंजाब पुलिस और दिल्ली पुलिस के लिए वॉन्टेड था। उसने 62 वर्षीय शौर्य चक्र पुरस्कार विजेता कॉमरेड बलविंदर सिंह सिंह संधू की कथित रूप से हत्या की थी। संधू सीपीआई (एम) के सदस्य भी थे। संधू को 16 अक्टूबर को तरनतारन के भिखीविंड में दो अज्ञात बाइक-सवारों ने उनके घर पर ही गोली मारकर हत्या कर दी थी।

भिखारीवाल के दिल्ली के इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे पर उतरते ही देश की बाहरी खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग (रॉ) ने उसे दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल के हवाले कर दिया, जिसे आतंकवाद-रोधी इकाई भी कहा जाता है।

स्पेशल सेल ने दावा किया था कि भिखारीवाल ने Pakistan स्थित इंटर-सर्विसेज इंटेलिजेंस के इशारे पर सिंह की हत्या का आदेश दिया था। हालांकि, पंजाब पुलिस ने अभी तक इसकी पुष्टि नहीं की है।

7 दिसंबर को पूर्वी दिल्ली के शकरपुर में छोटी मुठभेड़ के बाद स्पेशल सेल ने 5 लोगों को गिरफ्तार किया था, जिनमें 2 लोग पंजाब के हैं और 3 कश्मीर के हैं। इनकी गिरफ्तारी के बाद ही भिखारीवाल का नाम सामने आया।

गिरफ्तार किए गए लोगों की पहचान पंजाब के गुरदासपुर जिले के गुरजीत सिंह और सुखदीप सिंह और कश्मीर से शब्बीर अहमद, अयूब पठान और रियाज के रूप में हुई।

प्रमोद सिंह कुशवाहा के नेतृत्व में पांचों को गिरफ्तार करने वाली आतंकवाद-रोधी इकाई ने दावा किया है कि पकड़े गए आरोपी Pakistan के आईएसआई द्वारा प्रायोजित खालिस्तान आंदोलन के नेताओं के निर्देशों पर काम कर रहे थे और उनके आदेश पर ही संधू की कथित तौर पर हत्या की गई थी।

इस बीच पंजाब पुलिस ने कहा कि गुरजीत और सुखदीप ने गैंगस्टर भिखारीवाल के इशारे पर संधू की हत्या की थी। इसके अलावा उस पर गुरदासपुर में एक हिंदू नेता के सहयोगी की हत्या करने का भी आरोप है। लेकिन उन्होंने हत्या में आतंकी एंगल की बात को खारिज किया है।

पंजाब पुलिस ने पहले 11 लोगों की गिरफ्तारी करके संधू की हत्या का मामला सुलझाने का दावा किया था, इसमें जेल में बंद गैंगस्टर रविंदर सिंह और सुखदीप सिंह शामिल थे। पुलिस ने दावा किया था कि रविंद्र और सुखदीप दोनों ने पटियाला और फिरोजपुर जेल में रहते हुए संधू को मारने की साजिश रची थी। वे भिखारीवाल के करीबी सहयोगी हैं और उसने ही उन्हें यह काम करने की जिम्मेदारी दी थी।

पंजाब पुलिस और दिल्ली पुलिस दोनों ने कहा है कि भिखारीवाल से पूछताछ करने से मामले की ऐसी कड़ियां सामने आएंगी, जो अब तक नहीं मिली थीं।

–आईएएनएस

एसडीजे-एसकेपी