गोरखपुर के रामगढ़ ताल में उतारेंगे सी प्लेन : योगी

गोरखपुर-के-रामगढ़-ताल-में-उतारेंगे-सी-प्लेन-:-योगी

गोरखपुर, 13 जनवरी । गोरखपुर में रोड और एयर कनेक्टिविटी की मजबूत हो रही सुविधाओं के बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बुधवार को गोरखपुर महोत्सव के मंच से एक बड़ी घोषणा की। उन्होंने गोरखपुर के रामगढ़ ताल में सी प्लेन उतारने का ऐलान करते हुए कहा कि जल्द ही इस संबंध में प्रक्रिया शुरू कर दी जाएगी। इस प्लेन की विशेषता यह होगी कि यह एयरपोर्ट के साथ ही पानी पर भी उतर सकेगा।

बुधवार को दो दिवसीय गोरखपुर महोत्सव 2021 के समापन समारोह को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कि गोरखपुर से आज देश के सभी प्रमुख शहरों के लिए 9 फ्लाइट हैं, कुशीनगर से जल्द ही अंतर्राष्ट्रीय उड़ान शुरू हो जाएगी। आने वाले दिनों में यदि किसी को आवश्यकता पड़ेगी तो वह सर्किट हाउस के पास से सी प्लेन पकड़कर देश के किसी भी कोने में पहुंच जाएगा।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि लोगों का आह्वान करते हुए कहा कि कोरोना से लड़ने और बचने के लिए जिस संयम, मर्यादा और अनुशासन का पालन किया गया, उसी तरह का धैर्य रखते हुए कोरोना वैक्सीन के लिए अपनी बारी का इंतजार करें।

उन्होंने कहा कि मकर संक्रांति के बाद 16 जनवरी से कोरोना पर अंतिम प्रहार के लिए पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व व मार्गदर्शन में कोरोना वैक्सीनेशन का महाभियान प्रारंभ हो रहा है। सभी के लिए इसकी सुविधा होगी, लेकिन वैक्सीन के लिए उतावलापन न दिखाएं, भीड़ न लगाएं, बल्कि संयम के साथ अपनी बारी की प्रतीक्षा करें।

गोरखपुर महोत्सव के मंच से मुख्यमंत्री ने एक बार फिर ओडीओपी को Prime Minister नरेंद्र मोदी के आत्मनिर्भर भारत और वोकल फॉर लोकल की परिकल्पना को साकार करने का आधार बताया।

उन्होंने बताया कि यूपी की स्थापना का नोटिफिकेशन 24 जनवरी, 1950 को हुआ था लेकिन पहली बार यूपी दिवस उनकी सरकार ने 2018 से मनाना शुरू किया। पहले ही वर्ष के समारोह में एक जिला एक उत्पाद (ओडीओपी) योजना शुरू की गई और हर जिले में इसका व्यापक प्रभाव देखने को मिला।

योगी ने कहा कि गोरखपुर में रेडीमेड गारमेंट का हब बनने की पूरी क्षमता है। इसके लिए प्रदेश सरकार पूरी कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा कि खाद व अन्य लोकल प्रोडक्ट स्वदेशी के जरिये आत्मनिर्भरता का माध्यम बनने में सक्षम हैं। मुख्यमंत्री ने गोरखपुर के चिड़ियाघर को प्रदेश का सबसे खूबसूरत चिड़ियाघर बनाने के साथ ही तारामंडल क्षेत्र में इसी वर्ष एक विशाल ऑडिटोरियम का सौगात देने की भी घोषणा की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वाधीनता आंदोलन को निर्णायक दिशा देने वाली 4 फरवरी 1921 की चौरीचौरा की घटना के शताब्दी वर्ष पर पूरे साल कार्यक्रम होंगे, ताकि आजादी दिलाने वाले महापुरुषों के प्रति श्रद्धा निवेदित हो सके। साथ ही इन महापुरुषों के स्मरण को पाठ्यक्रम का हिस्सा बनाया जाएगा।

समारोह के दौरान ही मुख्यमंत्री योगी ने रामगढ़ ताल के तट पर प्रदेश के सबसे ऊंचे राष्ट्रीय ध्वज का वर्चुअल लोकार्पण किया। इसकी ऊंचाई 246 फीट (75 मीटर) है और ऊंचाई के लिहाज से यह पूरे देश में 10वां सबसे ऊंचा राष्ट्रीय ध्वज है। इसके साथ ही उन्होंने नया सवेरा के प्रवेशद्वार व पैडलेगंज के पास स्थित बुद्ध द्वार का वर्चुअल लोकार्पण भी किया। मुख्यमंत्री ने समारोह की स्मारिका का भी विमोचन किया।

–आईएएनएस

वीकेटी/एसजीके