China-ईयू समझौते से विश्व को क्या हासिल होगा?

China-ईयू-समझौते-से-विश्व-को-क्या-हासिल-होगा?

बीजिंग, 11 जनवरी । आजकल पूरी दुनिया कोरोना महामारी की चपेट में है और इसका खामियाजा विभिन्न देशों की अर्थव्यवस्थाओं को भुगतना पड़ रहा है। इस मुश्किल दौर में भी China सकारात्मक वृद्धि हासिल करने में सफल रहा है। हाल के महीनों में China ने ग्लोबल इकॉनमी को आगे बढ़ाने की दिशा में सक्रियता दिखाई है। जिसमें China, आसियान व कुछ अन्य देशों के बीच संपन्न आरसीईपी समझौता हो या फिर यूरोपीय संघ के साथ हुआ समझौता। China की दूरदर्शिता और त्वरित कदमों से विश्व अर्थव्यवस्था के लिए उम्मीद की किरण जगी है। यह आने वाले दिनों में विश्व को वैश्वीकरण की दिशा में आगे बढ़ने के लिए प्रेरित भी करेगा।

China-ईयू समझौते की बात करें तो साल 2021 को एक अच्छी शुरूआत मिली है। क्योंकि China न केवल दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है, बल्कि वैश्विक ग्रोथ में योगदान देने वाली प्रमुख आर्थिक इकाई भी है। इस समझौते के तहत China और यूरोपीय संघ एक-दूसरे के सौ भौगौलिक संकेतों (जीआई) का संरक्षण करने पर सहमत हुए हैं।

आर्थिक मंदी के इस माहौल में China और यूरोपीय संघ द्वारा समझौते पर दस्तखत करने से जाहिर होता है कि दोनों पक्षों के बीच भरोसा कायम है। इस समझौते से दोनों को निश्चित तौर पर लाभ मिलेगा। क्योंकि इसमें कई ऐसे उत्पाद शामिल किए गए हैं, जिन्हें तरजीह दी जाएगी। बात स्पेन की शराब की हो या France की शैंपेन की, जर्मन बीयर या फिर China के बीन पेस्ट व चीनी चाय की। जाहिर है इससे दोनों पक्षों के बाजार में ये चीजें निर्बाध रूप से प्रवेश कर सकेंगी। जो इन उत्पादों की वैश्विक पहुंच को और मजबूत करेगी।

जानकार मानते हैं कि इस अहम समझौते से दोनों को व्यापारिक लाभ तो मिलेगा ही, साथ ही गुणवत्ता वाले उत्पाद भी उपभोक्ताओं को आसानी से हासिल होंगे। यह समझौता China द्वारा खुलेपन के द्वार को और चौड़ा करने के वादे से भी मेल खाता है। माना जा रहा है कि इस एग्रीमेंट से द्विपक्षीय व्यापार एक नए स्तर पर पहुंचेगा।

समझौते के कार्यान्वयन के तहत दोनों पक्ष जीआई उत्पादों की बेहतर तरीके से रक्षा करेंगे। इसके अलावा उक्त उत्पादों को पारस्परिक रूप से पहचानने और दोनों बाजारों में उत्पादों की बिक्री के लिए अधिक से अधिक अवसर पैदा करने के प्रयास भी किए जाएंगे। जिससे दुनिया में China और यूरोपीय उत्पादों को व्यापक मंच मिल सकेगा।

(लेखक-अनिल पांडेय, चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

— आईएएनएस