सोशल मीडिया में इन दिनों हिंदुस्तान “Hindustan” के नाम पर बने उत्पाद (Sanitary Products) जिनका प्रयोग शौचालय (Toilet) में होता है उनको बंद करने की मांग हो रही है. हिंदुस्तान वो देश जंहा विश्व की सबसे बड़ी हिन्दू आबादी रहती है उस देश के नाम की गरिमा मिट्टी में मिलाने वालों को यंहा के लोग छोड़ते नहीं.

हिंदुस्तान सैनेटरी नाम से बने उत्पादों के फोटो के साथ लोग अपना गुस्सा जाहिर कर रहे है. लोगो का कहना है कि देवी देवताओं और देश से जुड़े प्रतीक शौचालय और गंदगी वाली जगह पर नहीं लगाये जाने चाहिए.

लोगों ने हिंदुस्तान और भारत (Hindustan, Hindware & Bharat Sanitary) नाम से आने वाले सेनेटरी उत्पाद (Toilet Seats) बंद करने और इनके निर्माताओं पर कार्यवाही की मांग की है.

2011 से सेनेटरी वेयरों पर ‘हिन्दुस्तान’ ट्रेडमार्क के इस्तेमाल पर रोक

हालांकि News18 की खबर के अनुसार सेनेटरी वेयर उत्पाद बनाने वाली कंपनियां अपने उत्पादों के ट्रेडमार्क के रूप में ‘Hindustan’ शब्द का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगी.

2011 में उपभोक्ता मामलों के विभाग ने सभी राज्यों और केन्द्रशासित प्रदेशों की सरकारों और सभी सरकारी मंत्रालयों और विभागों के नाम जारी आदेश में कहा है कि आगे से हिन्दुस्तान शब्द का इस्तेमाल ट्रेडमार्क (Hindustan Trademark) के रूप में नहीं होना चाहिए.

सेनेटरी वेयर बनाने वाली प्रमुख कंपनी हिन्दुस्तान सेनेटरी वेयर को इस आदेश के बाद अपने उत्पादों पर से हिन्दुस्तान शब्द हटाना था. हालांकि ये स्पष्ट नहीं है कि कंपनी ने ऐसा किया है.