जानिए जन्म कुंडली में सूर्य किस राशि में क्या फल देता है?

ज्योतिष शास्त्र में सूर्य (Sun) पूर्व दिशा का स्वामी, पुरुष, रक्तवर्ण, पित्त प्रकृति और पाप ग्रह है। सूर्य आत्मा, स्वभाव, आरोग्यता, राज्य और देवालय का सूचक तथा पितृकारक है। पिता के सम्बन्ध मे सूर्य से विचार किया जाता है।

नेत्र, कलेजा, मेरुदण्ड और स्नायु आदि अवयवो पर इसका विशेष प्रभाव पडता है। इससे शारीरिक रोग, सिरदर्द, अपचन, क्षय, महाज्वर, अतिसार, मन्दाग्नि, नेत्र विकार,मानसिक रोग, उदासीनता, खेद, अपमान एव कलह आदि का विचार किया जाता है। 

यह लग्नसे सप्तम स्थान में बली माना गया है। मकर से छह- राशि पर्यन्त चेष्टाबली है। 

जन्म समय में सूर्य का द्वादश (बारह) राशियों में फल 

आपकी जन्म कुंडली में जन्म के समय सूर्य किस भाव, राशि या खाने में है उसके आधार पर निम्न लिखित फल होते है:

जन्म कुंडली में सूर्य मेष राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य मेष राशि में होने पर जातक आत्मबली, स्वाभिमानी, प्रतापी, शूरवीर,युद्ध प्रिय, साहसी, महत्वाकांक्षी , उदार, गंभीर और पित्त विकार से ग्रस्त होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य वृष राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य वृष राशि में होने पर जातक स्वाभिमानी, व्यवहार कुशल, शांत तथा पाप से डरने वाला और स्त्रियों से विद्वेष रखने वाला होता है. ऐसा जातक मुख के रोग से ग्रसित होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य मिथुन राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य मिथुन राशि में होने पर जातक विवेकी, विद्वान, बुद्धिमान, मधुर भाषी, उदार,नम्र, प्रेमी, धनवान तथा इतिहास और ज्योतिष में रूचि रखने वाला होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य कर्क राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य कर्क राशि में होने पर जातक कीर्तिमान, लब्ध प्रतिष्ठ, कार्य परायण, चंचल, साम्यवादी, परोपकारी, इतिहासकार और कफ का रोगी होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य सिंह राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य सिंह राशि में होने पर जातक योगाभ्यासी, सत्संगी, वन विहारी, गम्भीर, क्रोधी, उत्साही, तेजस्वी, पुरुषार्थी और धैर्यशाली होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य कन्या राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य कन्या राशि में होने पर जातक व्यर्थकवादी, दुर्बल, शक्तिहीन, मन्दाग्नि रोग से पीड़ित परन्तु लेखन कार्य में कुशल होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य तुला राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य तुला राशि में होने पर जातक आत्मबलहीन, परदेशाभिलापी, मन्दाग्नि पीड़ित, मलीन और व्याभिचारी होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य वृश्चिक राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य वृश्चिक राशि में होने पर जातक चिकित्सक, गुप्त उधोगी, लोकमान्य, साहसी, क्रोधी, लोभी और उदर रोगी होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य धनु राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य धनु राशि में होने पर जातक दयालु, योग्मार्गी, आस्तिक, बुद्धिमान, विवेकी, व्यवहार कुशल, शांत और धनी होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य मकर राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य मकर राशि में होने पर जातक चंचल, बहुभाषी, दुराचारी, लोभी और झगड़ालू होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य कुम्भ राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य कुम्भ राशि में होने पर जातक कार्य में दक्ष परन्तु स्थिर चित्त, क्रोधी और स्वार्थी होता है.

जन्म कुंडली में सूर्य मीन राशि में फल 

जन्म कुंडली में सूर्य मीन राशि में होने पर जातक योगी, विवेकी, ज्ञानी, बुद्धिमान, प्रेमी, यशस्वी और ससुर से लाभ पाने वाला होता है.