• जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में जिले की स्वास्थ्य सेवाओं पर विस्तार से हुई समीक्षा
  • कमजोर प्रगति वाली एएनएम के खिलाफ कार्यवाही अमल में लावें

जैसलमेर, 18 जून। जिला कलक्टर नमित मेहता ने चिकित्सा अधिकारियों को स्वास्थ्य सूचकांको में सुधार कर जिले को अग्रणीय जिलों में लाने हेतु विशेष प्रयास करने के निर्देश प्रदान किये। उन्होंने सभी चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे गर्भवती महिलाओं का शत-प्रतिशत पंजीयन एवं टीकाकरण सुनिश्चित करावें एवं इस कार्य में किसी प्रकार की लापरवाही नहीं बरतें। उन्होंने कहा कि गर्भवती महिलाओं के एएनसी पंजीयन में जो कमी आई है वह चिन्तनीय है। उन्होंने इसके लिए विशेष रूप से फील्ड स्टॉफ को पाबंद की पूर्ति कराने के साथ ही जो एएनएम काम नहीं करती है उसके खिलाफ कार्यवाही करने के साथ ही निलम्बन तक की कार्यवाही अमल में लावें।

जिला कलक्टर मेहता ने मंगलवार को कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक में यह निर्देश दिए। बैठक में मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद ओमप्रकाश, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.बी.के.बारूपाल, प्रमुख चिकित्सा अधिकारी डॉ.जे.आर.पंवार के साथ ही ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारी एवं अन्य चिकित्सा अधिकारी उपस्थित थें। जिला कलक्टर ने टीकाकरण कार्यक्रम की चर्चा करते हुए चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे शत-प्रतिशत टीकाकरण सुनिश्चित करावें एवं उन्होंने विशेष रूप से सीमावर्ती क्षेत्र के दुरस्त गावों में इस कार्यक्रम पर विशेष फोकस के साथ ही व्यक्तिगत रूचि का भाव अपनाते हुए सभी बच्चों का टीकाकरण सुनिश्चित करावें ताकि हम स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार ला सकें। उन्होंने संस्थागत प्रसव में बढोतरी लाने के लिए भी विशेष प्रयास करने के निर्देश दिए एवं सभी एएनएम को पाबंद किया जाये कि वे जहां तक हो संस्थागत डिलीवरी ही करावें। उन्होंने होम डिलीवरी के मामले में रिपोर्टिंग में आ रही विसंगति के मामले में भी गंभीरता बरतने पर जोर दिया। उन्होंने एएनसी पंजीयन के बाद जिस गर्भवती महिला ने जहां भी डिलीवरी करवाई है लेकिन उसकी रिपोर्टिंग संबंधित एएनएम अनिवार्य रूप से करें इसके लिए उसको पाबंद किया जायें।

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

जिला कलक्टर ने जननी सुरक्षा योजना के बकाया भुगतान को समय पर कराने के साथ ही राजश्री योजना में अगली बैठक तक 85 प्रतिशत उपलब्धि अर्जित करने के विशेष निर्देश दिए एवं यह भी कहा कि जिस बालिका को प्रथम भुगतान मिल जाता है उसकी दूसरी किश्त शत-प्रतिशत खाते में जमा हो जाये यह सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने राजश्री के बकाया 813 प्रकरणों का निस्तारण संबंधित चिकित्सा अधिकारियों को 3 दिवस में करवाकर उनका भुगतान करने की कार्यवाही के निर्देश दिए।

उन्होंने मुख्य ब्लॉक चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे स्वास्थ्य क्षेत्र के सभी रेटिंग वाले सूचंकाको की प्रभावी मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए एवं यह भी कहा कि जो भी चिकित्सा अधिकारी कम प्रगति देता है उसके खिलाफ भी कार्यवाही प्रस्तावित करें। उन्होंने मुख्यमंत्री निःशुल्क दवा योजना के तहत समय पर सभी चिकित्सा केन्द्रों पर दवाई की उपलब्धता सुनिश्चित हो इसकी प्रभावी मॉनिटरिंग करने के निर्देश दिए। उन्होंने सभी चिकित्सा केन्द्रों पर निःशुल्क जांच का लाभ मरीजों को मिलें इस पर भी पूरा फोकस रखा जाये। उन्होंने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को निर्देश दिए कि वे सभी चिकित्सा अधिकारियों को पाबंद कर दें कि वे गर्भवती महिलाओं के पंजीयन एवं उनकी सभी जांचें हो तथा बच्चों के टीकाकरण पर विशेष ध्यान दें एवं इसमें किसी भी प्रकार की लापरवाही की तो उसको बर्दास्त नहीं किया जायेगा।

मुख्य कार्यकारी अधिकारी ओमप्रकाश ने भी सभी चिकित्सा अधिकारियों को कहा कि वे उनके चिकित्सा केन्द्रों पर आने वाले सभी मरीजों को स्वास्थ्य का पूरा लाभ प्रदान करें उसी भावना से वे सेवाएं दें। उन्होंने कहा कि मरीज चिकित्सक को भगवान के समान समझता है तो उन्हें भी उसी भाव से उनके उपचार के लिए कार्य करना है।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. बारूपाल ने बैठक में स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित प्रत्येक इण्डिगेटर की प्रगति पर प्रकाश डाला। उन्होंने सभी चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिला कलक्टर ने जिन महत्वपूर्ण स्वास्थ्य बिन्दुओं पर जोर दिया है उनमें हमें अच्छी उपलब्धि लानी है।