विश्व बाल श्रम निषेध दिवस पर पाक विस्थापित भील बस्ती में विधिक चेतना शिविर का आयोजन 1

जैसलमेर 12 जून। राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण द्वारा जारी एक्शन प्लान के तहत जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष जिला एवं सेशन न्यायाधीश आशुतोष कुमार के निर्देशन एवं चाईल्ड लाईन, समाज कल्याण विभाग एवं श्रम विभाग के संयुक्त तत्वावधान में विश्व बाल श्रम निषेध दिवस –World Day Against Child Labour 2019 के अवसर पर बुधवार आज भील बस्ती में विधिक जागरूकता शिविर का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर शिविर में संबोधित करते हुए सचिव शरद तंवर बताया कि बालकों से श्रम करवाना एवं उन्हें शिक्षा से वंचित रखना अपराध की श्रेणी में आता है, माता पिता एवं समाज का यह नैतिक दायित्व है कि बच्चों के खेलने और पढने की उम्र में उनसे कोई शारीरिक श्रम का कार्य न लिया जावे जिससे उनके विकास में बाधा पड़ती हो। बालकों को शिक्षा एवं विकास का पूरा पूरा अवसर मिलना चाहिए। साथ ही उन्होंने बाल विवाह निषेध अभियान के बारे में जानकारी देते हुए बाल विवाह को कानूनी अपराध बताया एवं कानूनी जानकारी प्रदान की।

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

सिकोईडिकोन चाईल्ड लाईन 1098 जिला समन्वयक अर्जुन देव बैरवा द्वारा बाल अधिकारों व बाल श्रम मुक्ति पर विस्तृत जानकारी प्रदान की गई जिसमें होटल, ढाबों, चाय केंटीन, बस स्टेंड, फैक्ट्रियों आदि में बालकों के काम करते पाये जाने पर बाल श्रम अधिनियम 1986 के तहत कानूनी कार्यवाही किये जाने की जानकारी दी गई। हेल्पलाईन 1098 के बारे में प्रचार प्रसार किया गया, संदर्भित प्रचार प्रसार सामग्री वितरित की गई।

शिविर में हिम्मतसिंह कविया, समाज कल्याण अधिकारी, श्रम कल्याण अधिकारी द्वारा पालनहार योजना, श्रम कार्ड, बच्चियों के विवाह के लिये सहायता, श्रमिकों एवं उनके आश्रितों को सहायता योजना आदि के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई। सभी का धन्यवाद ज्ञापित करते हुए विषय से संबंधित पेम्पलेट्स का वितरण किया गया।