जैसलमेर, 03 जून। आगामी दक्षिण पश्चिमी मानसून के मध्यनजर आपदा प्रबंधन एवं सहायता को लेकर जिला कलक्टर नमित मेहता की अध्यक्षता में सोमवार को कलेक्ट्रेट सभागार में बाढ़ बचाव कार्यो की तैयारियों  के सम्बन्ध में बैठक आयोजित हुई।

     जिला कलक्टर मेहता ने मानसून 2019 में बाढ़ बचाव कार्यो की विभिन्न विभागों के प्रतिनिधियों को उनके द्वारा किये गये कार्यों की विस्तार से जानकारी ली। उन्होंने मानसून के दौरान, पूर्व वर्षो के अनुभवों को देखते हुए जिले के कुछ हिस्सों में बाढ़ की संभावना अथवा जल भराव के मध्यनजर आपदा प्रबन्धन तन्त्र को सक्रिय बनाने एवं आम नागरिकों  को होने वाली  सम्भावित कठिनाईयों के निराकरण के लिए त्वरित कार्यवाही करने तथा प्रभावित क्षेत्रों में शीघ्र राहत पहुंचाने के निर्देश दिये। उन्होंने सभी संबंधित कार्यालयों में कन्ट्रोल रूम स्थापित करने तथा आवश्यक संसाधन उपलब्ध रखने के निर्देश दिए।

अमेजन इंडिया पर आज का शानदार ऑफर देखें , घर बैठे सामान मंगवाए  : Click Here

     जिला कलक्टर ने जिले के विभिन्न हिस्सों में अग्रिम तौर पर बाढ़ चेतावनी की सूचना देने की परिपूर्ण व्यवस्था, बचाव दल का मोबिलाइजेशन, बचाव नौकाएं, पम्पसैट, पर्याप्त मात्रा में रेत के कट्टे  आदि सामग्री की व्यवस्था किये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने पुलिस, सार्वजनिक निर्माण विभाग तथा स्थानीय निकाय के प्रतिनिधियों को नदी नालों पर निर्मित पुलिया व सेतु मार्ग पर पानी के भराव की स्थिति में सुरक्षा हेतु सुरक्षाकर्मी एवं चेतावनी बोर्ड लगाने के निर्देश दिये।

 उन्होंने सम्बधित विभागों को आपसी समन्वय स्थापित कर मानसून के दौरान बाढ़ बचाव के कार्यो को प्राथमिकता से सम्पादित करने के भी निर्देश दिये। साथ ही पर्याप्त मात्रा में दवाईयों तथा पीओएल के स्टॉक सुरक्षित रखने के लिए संबंधित विभागों को आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश दिए। उन्होंने गोताखोरो की सूची भी अद्यतन कर उसे संबंधित विभागों को रखने को कहा।

           बैठक में अतिरिक्त जिला कलक्टर भागीरथ विश्नोई, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जयनारायण मीणा, उपखण्ड अधिकारी जैसलमेर अजय, पोकरण अनिल जैन एवं समस्त नोडल विभागों के अधिकारियों के प्रतिनिधि उपस्थित थे। इस दौरान आगामी मानसून में बाढ़ बचाव हेतु तैयारियों के संबंध में विस्तृत से चर्चा की गयी।